खालसा पंथ का स्थापना दिवस की धूम ,गुरुद्वारा मजनु टीला ने सिखों से कुछ खास अपील

दिल्ली –जब भी किसी जुल्म, अन्याय, अत्याचार की पराकाष्ठा होती है, तो उसे हल करने और उसके उपाय के लिए कोई कारण भी बन जाता है। इसी नियम के अनुसार जब मुगल शासक औरंगजेब द्वारा जुल्म, अन्याय व अत्याचार की हर सीमा लाँघ, श्री गुरु तेग बहादुरजी को दिल्ली में चाँदनी चौक पर शहीद कर दिया गया, तभी गुरु गोविंदसिंहजी ने अपने अनुयायियों को संगठित कर खालसा पंथ की स्थापना की जिसका लक्ष्य था धर्म व नेकी (भलाई) के आदर्श के लिए सदैव तत्पर रहना। इसी के चलते जिन लोगों को  निम्न जाति का समझा जाता था उन्हें  दशमेश पिता ने अमृत छकाकर सिंह बना दिया। इस तरह 13 अप्रैल,1699 को श्री केसगढ़ साहिब आनंदपुर में दसवें गुरु गोविंदसिंहजी ने खालसा पंथ की भी स्थापना की। पूरी जानकारी के लिये video link पर click करें ।

टिप्पणियाँ
Loading...