कर्मचारी यूनियन ने किया रक्त से रण का ऐलान , 18 जुलाई को भरेंगे खून के मटके

दिल्ली- उत्तर रेलवे कर्मचरी यूनियन ने “रक्त से रण” का आह्वान किया है।जिसके तहत 18 जुलाई को बड़ी संख्या में रेलवे कर्मचारी बड़ोदा हाउस महा प्रबंधक कार्यालय पर खून से मटके भरकर सरकार को चेतावनी देंगे की वह उनकी 20 सूत्रीय मांगो पर गौर करे वरना यह आंदोलन देशभर में चलेगा। इस आदोलन की तैयारी कर रहे युनियन के नेताओं से दिल्ली दर्पण टीवी ने बात कर उनकी तैयारियों और तेवरों का जायजा लिया ।दिल्ली में उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन के इस आह्वान ने रेल मंत्रालय से लेकर मंत्री तक की नींद उड़ा दी है ।बीजेपी से जुड़े भारतीय मजदूर संघ की इकाई ने रेलवे मंत्रालय से लेकर बोर्ड तक पर आरोप लगाया है की रेलवे में भ्र्ष्टाचार और रेलवे कर्मचारियों का शोषण चरम पर है।इसके खिलाफ उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन ने कई पत्र लिखे।डीएमआर ऑफिस में प्रदर्शन भी किया और अब ऐलान किया है की वह 18 जुलाई को नयी दिल्ली बड़ोदा हाउस स्थित महाप्रबंधक कार्यालय पर 24 सूत्रीय मांगो के साथ रेलवे कर्मचारियों के खून से मटके भरके फोड़ेंगी ।दिल्ली दर्पण टीवी के माध्यम से रेलवे कर्मचारियों को आह्वान किया है तो सरकार को चेतवानी भी दी है।उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन के इस आंदोलन का भारतीय मजदूर संघ के राज्य कर्मचारी यूनियन के प्रदेश प्रभारी बीएस भाटी ने भी इस आंदोलन को वक्त की जरूरत बताते हुए सभी कर्मचरियों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में आने का आह्वान किया है ।उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन ने एनपीएस तो तुरंत प्रभाव से समाप्त कर पुराणी पेंशन योजन के एक सामान रूप से लागू किया जाने सहित कुल 24 मांगे सामने रखी है ।इस आंदोलन के संयोजक इंद्रजीत सिंह का दावा है यह आंदोलन तो केवल बानगी भर है ।अगर सरकार ने उनकी मांग नहीं मानी तो देशभर में हज़ारों रेलवे अपनी मांगों और हकों को लेकर सडकों पर होंगी ।इस आंदोलन को भारतीय रेलवे मजदूर संघ के महमंत्री अशोक कुमार शुक्ला , ब्रजेश कुमार , देवराज भड़ाना , अनीष मिश्रा सहित की नेता सम्बोधित कर रेलवे में कर्मचरियों के शोषण और भ्र्ष्टाचार की पोल खोलेंगे। जिस ताकत तो तेवर के साथ उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन रेलवे यूनियन आंदोलन में लगी है उसने रेलवे मंत्रालय से लेकर तमाम बड़े अधिकारीयों की चिंता बढ़ा दी है। उन्हें यह समझ नहीं आ रहा है की आखिर खून से भरे मटके फोड़ने के आह्वान को कैसे रोका जाये। इस आंदोलन ने अन्य यूनियंस को भी चौंका दिया है ।
https://www.youtube.com/watch?v=6b4rbuPm4zs

टिप्पणियाँ
Loading...