अच्छाई भी, सच्चाई भी

Delhi Olympic Games का असर बवाना तक

दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में दिल्ली ओलिंपिक गेम्स का आगाज हुआ तो उसकी धमक और धूम बवाना में भी दिखी –बाहरी दिल्ली के बवाना स्टेडियम में बॉक्सिंग , स्केटिंग , टाईकोंडो और थ्रोबाल कॉम्पिटिशन हो रहे है —यहाँ खिलाड़ियों के साथ साथ बाहरी दिल्ली के बड़े बड़े नेता भी मंच पर दिखाई दिए —इनमें पूर्व संसद सज्जन कुमार भी शामिल थे—सज्जन ने इस आयोजन पर खिलाड़ियों के साथ साथ दिल्ली ओलिंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष कुलदीप वत्स की भी तारीफ करते हुए इनका सम्मान खुद किया —इस मौके पर कुलदीप वत्स ने इस इस आयोजन के लिए मदद करने वाले लोगों का आभार व्यक्त किया तो किसी भी तरह की मदद नहीं देने पर  वहीँ दिल्ली सरकार के खिलाफ गुस्से का इजहार भी किया —

दिल्ली ओलिंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष कुलदीप वत्स ऐलान कर रहे है की वे आगे भविष्य में होने वाले खेलों के लिए दिल्ली सरकार से कोइ मदद नहीं लेंगे —कुलदीप वत्स यदि ऐसा कह रहे है तो इसके पीछे वे लोग है जो इस बार हो रहे ” दिल्ली ओलिंपिक गेम्स ” में तन मन और धन से सहयोग कर रहे है —इनमें कराला के निवासी और दलबीर माथुर भी एक नाम है। दलबीर सिंह इस बार दिल्ली ओलिंपिक एसोसिएशन को हर तरह से सहयोग कर रहे है —एसोसिएशन ने दलबीर सिंह का सम्मान किया तो दलबीर ने भी यह मौक़ा दिए जाने पर एसोसिएशन का आभार व्यक्त किया —

बाहरी दिल्ली का यह स्टेडियम दिल्ली ओलिंपिक  गेम्स के लिए ही नहीं बल्कि खेलों के लिए बहुत उपयोगी साबित हो रहा है –बाहरी दिल्ली के छात्र -छात्राएं बड़ी संख्या में इस बार इन गेम्स में बाग़ ले रही है –लेकिन इस बार विजेताओं को मैडल के अलावा प्रोत्साहन नगद राशि क्या मिलती यह देखना अभी बाकी है —

टिप्पणियाँ
Loading...