Kaashi – Movie Review | Sharman Joshi | Aishwarya Devan

अभिनेता शरमन जोशी चुनिंदा फिल्में करते हैं।  इस बार उन्होंने काशी फिल्म का चयन किया है। पिछले दिनों पूरे देश के अलग-अलग शहरों में एक लड़की के गायब होने के पोस्टर्स ने कई सवालिया निशान उठा दिए थे कि आखिररकार वो लड़की कौन है। हालांकि, वो इस फिल्म का कैंपेन था।फिल्म रिलीज हो चुकी है। आइए जानते हैं आखिरकार कैसी बनी है यह फिल्म। शरमन जोशी की फिल्म काशी- इन सर्च ऑफ गंगा एक थ्रिलर फिल्म है। फिल्म में शरमन जोशी एक गांव में रहने वाले शख्स काशी की भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म की कहानी शरमन जोशी के आस पास घूमती है। फिल्म काशी में शरमन जोशी अपनी बहन की तलाश करते हैं, जिसका नाम गंगा है। इतना ही नहीं शरमन  को अपनी बहन गंगा की तलाश करते-करते कई बार कोर्ट कचहरी तक के चक्कर काटने पड़ जाते हैं।फिल्म की कहानी काशी नगरी वाराणसी की पृष्ठभूमि पर आधारित है। फिल्म में शरमन जोशी एक गंभीर किरदार में नजर आ रहे हैं। खास बात यह है कि फिल्म में शरमन जोशी काशी नाम के डोम का किरदार निभा रहे है।काशी अपना घर चलाने के लिए मणिकर्णिका घाट पर शवों का दाह संस्कार करवाने का काम करते हैं। लखनऊ से जर्नलिस्ट देविना (ऐश्वर्या दिवान) वाराणसी अपने रिसर्च के लिए आती हैं और उनकी मुलाकात काशी से होती है।कहानी में ट्विस्ट तब आता है, जब काशी की बहन गंगा अचानक लापता हो जाती है। उसकी तलाश में काशी को अलग अलग शहरों में भटकना पड़ता है।फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी कहानी, डायरेक्शन और स्क्रीनप्ले हैष। बहुत ही उबड़-खाबड़ कहानी है।  कोई भी किरदार आपको प्रभावित नहीं कर पाता है. मुद्दा अच्छा था, लेकिन एक अच्छी फिल्म बनते बनते रह गई. पूरी फिल्म में हर दसवें मिनट पर एक गाना आ जाता है, जो इसकी कहानी को और गड़बड़ करता है। आखिरकार गंगा कैसे गुमशुदा हो गई है। उसके साथ क्या-क्या होता है। इन सभी बातों का पता आपको फिल्म देखकर ही चल पाएगा।

टिप्पणियाँ
Loading...