भाजपा से बेदखल हुए सांसद सांसद उदित राज!

चर्चित दलित कार्यकर्ता और भाजपाई सांसद डॉ उदित राज यूं तो खुद को देश का नंबर 1 सासंद होने का दावा करते हैं लेकिन डॉ उदित राज ने अपने कार्यकाल में जितना और जैसा काम किया है। वो जगजाहीर है। आलम तो ये है बीजेपी उदित राज को एक बार फिर टिकट देने से कतरा रही है।बीजेपी अलाकमान वेस्ट दिल्ली की सीट किसी हाल गवाना नहीं चाहती। यही कारण है की बीजेपी आला कमान लगातार उदित राज को नज़र अंदाज़ कर रही है। उनकी ना तो प्रधानमंत्री कुछ सुन रहे हैं और ना ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह उनके किसी मैसेज का जवाब दे रहे हैं। यहां तक की दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवार भी चुप्पी साधे बैठे हैं।यही वजह है की डॉ उदित राज ने बीजेपी आला कमान से बात करने के लिये ट्विटर अकाउंट का सहारा लिया है। उदित राज ने ट्यूट कर कहा की

अमित शाह जी आपसे बात करने की कोशिश की एसएमएस भी भेजा एवं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से भी बात करने की कोशिश की मनोज तिवारी जी बार बार करते रहे की टिकट मेरा ही होगा एन सीतारमन से भी कोशिश की लेकिन बात नहीं हो सकी और अरुण जेटली जी से भी आग्रह किया।

डॉ उदित राज ने ये भी कहा की मैनें अपनी पार्टी, विलय की पूरे देश में मेरे करोड़ों समर्थक मेरी टिकट को लेकर बेचैन हैं। उत्तर पश्चिमी दिल्ली से मेरा नाम अभी तक घोषित नहीं किया। मेरे समर्थकों ने आज शाम 4 बजे तक का इंतजार करने को कहा है।

आपका उदित राज

आखिर में मैं बीजेपी पार्टी से उम्मीद करता हूं कि वह दलितों को धोका नहीं देगें।

लेकिन मौजूदा सांसद उदित राज ने ये ट्यूट को अपनी बात बीजेपी आला कमान तक पहुंचाने के लिये किये थे लेकिन बेचारे सांसद ट्रोलर्स के निशाने पर आ गये। और देश के नंबर 1 सांसद की जमकर फजीती हुई। एक यूज़र ने लिखा

बहुत अच्छा चौकीदार बनने से भी कोई फायदा नहीं हुआ।

आपके काम अच्छे होते तो सभी बात भी करते और टिकट भी मिलता।वैसे जनता आपका एक वीडियो भूला नहीं है अभी राजनिति में हर कोई पैसा कमाने ही आता है और कमाता है ऐसा ही कुछ उपदेश दिये थे आपइसके बाद भी भी टिकट की उम्मीद कर रहे हो बडे घाघ राजनेता हो।

  बता दें की डॉ उदित राज की ये बैचेनी  रविवार को  घोषित हुए चारों नामों के बाद देखने को मिली जिसके बाद उन्होंने ट्वीटर के  ज़रिये धनाधन ट्वीट कर कभी दलित कार्ट खेलने की कोशिश की तो कभी शाम 4 बजे तक की धमकी दी …. डॉ उदित राज की ऐसी हालत देख कर ये कहना गलत नहीं होगा की बीजेपी पार्टी के लिये उनके सिक्के की चमक अब फिकी पड़ गयी है।

टिप्पणियाँ
Loading...