बेटा अब पास नहीं हैं लेकिन इंसाफ के लिए एक बाप का प्रयास जारी है

0

अपने बेटे की मौत की गुत्थी सुलझाने के लिये जो पिछले डेढ़ साल से ऐड़ी चौटी का जोर लगा रहे हैं वो हैं राजवीर सिंह । बेटे प्रवेश की मौत की मौत एक ऐसी गुत्थी बन गया जो लंबे समय के इंतजार के बाद भी सुलझाने का नाम नहीं ले रही। उनके पिता इंसाफ के लिये बेबेस और लाचार हो चुके है , वो पुलिस की से लागातार इंसाफ के लिये गुहार लगा रहे हैं लेकिन इंसाफ अभी उनसे कौसो दूर है। दरअसल यह कहानी है प्रवेश की जो बवाना में एक फैक्ट्री में तकनीशियन की नौकरी करता था , नो अप्रैल 2018 को दिन में राजवीर सिंह के पास प्रवेश की फैक्ट्री से फ़ोन आता है की प्रवेश को अटैक पड़ा है जिसके चलते उसे वाल्मीकि हॉस्पिटल में ले जारहे है , राजवीर सिंह अपनी पत्नी के साथ फटाफट अस्पताल पहुंचते है लेकिन वहा पर प्रवेश को मृत घोसित किया जा चूका था , प्रवेश के माँ बाप को उसका चेहरा भी दिखाना डॉक्टर्स को मुनासिफ नहीं लगा ।

टिप्पणियाँ
Loading...