कविता पाठ और गीत संगीत से सजी बिरसा मुण्डा की जयंती

0

ये नज़ारा है शुक्रवार 15 नवम्बर को दिल्ली के अशोक विहार फेस 2 स्थित सनातन भवन में आयोजित जनजाति गौरव दिवस समारोह का जिसे आयोजित किया गया वनवासी कल्याण आश्रम दिल्ली की तरफ से | बता दें की ये कार्यक्रम हमारे स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुण्डा की जयंती के उपलक्ष्य पर आयोजित हुआ था। अंग्रेजों की गोलियों के सामने तीर-कमान से लड़ने वाले बिरसा मुंडा को झारखंड समाज के लोग भगवान मानते हैं। यही वजह है की आज भी उनकी जयंती को मनाने वालों की कमी नहीं है। और कुछ ऐसा ही नज़ारा दिल्ली के अशोक विहार में भी देखने को मिला |

प्रदीप गोयल की अध्यक्षता में आयोजित इस कार्यक्रम में खाघ प्रसंस्करण राज्यमंत्री भारत सरकार रामेश्वर तेली जी बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहे। जिन्होंने बिरसा मुण्डा के जीवन के बारे में कई बातें साझा की|

खास बात ये रही की विरसा मुण्डा के जीवन पर आधारित एक नाटिका भी दिखाई गयी। जिसे प्रस्तुति प्रज्ञा आर्ट्स दिल्ली की तरफ से प्रस्तुत किया गया था।

इसके अलावा राष्ट्रीय कवि श्री गजेन्द्र सोलंकी ने भी कार्यक्रम में काव्यपाठ किया। जिसे सुनकर सभी मंत्रमुग्ध रह गये। और बिरसा मुण्डा के प्रति अपने विचार साझा करते दिखे

कार्यक्रम में कई विदेशी मूल के लोग भी उपस्थित थे। जो पिछले कई वर्षों से बढ़ते धर्म परिवर्तन को रोकने का काम कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने अंज्रेगी भाषा में गीत गाये और कई तरह की प्रस्तुति भी दी|

कुल मिला कर ये कार्यक्रम नयी पिढी को देश की स्वतंत्रता में अपना योगदान देने वाले स्वतंत्रता सेनानीयों खास कर विरसा मुण्डा के बारे में जानकारी देने वाला रहा | जो आज के समय में बेहद ज़रुरी भी है ताकि नयी पिढ़ी देश के लिये बलिदान देने वालों को भूल ना जाएं|

टिप्पणियाँ
Loading...