Badli में एक और फर्जी उद्घाटन का खुलासा

वैसे ये तो आम बात है की चुनाव आते ही विधायक , मंत्री और यहाँ तक की मंत्री भी ताबड़ तोड़ नारियल फोड़ने और फीते काटने की मुहिम में जुट जाते हैं । लेकिन ईमानदारी का ढोल पीटने वाली केजरीवाल सरकार और उनके विधायक से भी क्या आपने ऐसी ही उम्मीद की थीं?

अब ये तस्वीरें और ये बोर्ड देखिये… लगभग एक महीने पहले बादली क्षेत्र के इस मवेशी अस्पताल के परिसर में… अस्पताल की ही जमीन पर ओपन जिम और पार्क बनाने का नारियल फोड़ दिया गया । लेकिन जैसा की आप देख सकते हैं… आज तक इस बोर्ड को लगाने के अलावा घास काटने तक की ज़हमत भी नहीं उठाई गई ।

जब इसकी पड़ताल हमने की तो मालूम चला कि ये निरियल फोड़ कार्यक्रम भी विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र ही किया गया था ।

पहले जनता को सौगात के सपने दिखा दो और फिर आचार संहिता लग जाने के बहाने बना दो ।

ये है ‘आप’ के विधायक और मुख्यमंत्री का स्टाइल !

इस मवेशी अस्पताल पर आखिर बिना किसी clearence के कोई कैसे बोर्ड लगा सकता है ? और बिना अस्पताल के स्टाफ़ की सूचना के यहाँ कार्यक्रम भी हो गया ।

हम बताते हैं पूरी बात…. मवेशी अस्पताल की जमीन पर पार्क और ओपन जिम तो बस बहाना था… असल में जनता को फुसलाना था । भई, चुनाव सर पर हैं… ठगो और वोट पाओ ।

दिल्ली सरकार के अस्पताल के ही डॉक्टर ने इस बाबत बादली थाने में शिकायत भी दर्ज कराई..और पड़ताल में मालूम चला की अभी तक कहीं कोई योजना नहीं है लेकिन शीलान्यास कर दिया गया । हालाँकि.. विधायक अजेश यादव इसे एक गलतफ़हमी मानते हैं ।

वहीं पूर्व विधायक देवेन्द्र यादव ने इसे केजरीवाल सरकार और उनके विधायक की एक और कारगुज़ारी क़रार दिया है —

साफ़ बात ये है की दलीलें चाहे

कोई कुछ भी दे… बादली गाँव में न तो पार्क बना और न ही ओपन जिम ही लगा…लगा है तो बस ये बोर्ड जो खुद ही उन उद्घाटनकर्ताओं की फ़जीहत कर रहा है जो टेंट लगवा कर यहाँ नारियल फोड़ गए ।

टिप्पणियाँ
Loading...