रोहिणी – पुलिस और सीआईडी बनकर पार्क में प्रेमी युगल से करते थे वसूली, चार गिरफ्तार |

मन्नत, दिल्ली दर्पण संवाददाता, रोहिणी।

रोहिणी जिला पुलिस के प्रशांत विहार थाना  पुलिस चार लोगों को गिरफ्तार कर ऐसे गैंग का भांडा फोड़ किया है जो जापानी पार्क में पुलिस और CID बनकर पार्क में एकांत में बैठे लोगों खासकर प्रेमी जोड़ों से वसूली किया करते थे। गिरफ्तार किये गए चारों आरोपी पहले सेक्युरिटी गार्ड का काम किया करते थे लेकिन आर्थिक तंगी के चलते इन्होने यह कदम उठाया। 

रोहिणी के जापानी पार्क में प्रेमी युगल से करते थे वसूली

डीसीपी रोहिणी पी.के मिश्रा के अनुसार प्रशांत विहार थाना पुलिस को सूचना मिली थी की रोहिणी के जापानी पार्क में ऐसे लोग घूम रहे है जो पार्क में आने वाले जोड़ों से वसूली करते है। इस सूचना पर प्रशांत विहार थाना अध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने एआई मनीष और सिपाही दिलावर ,सत्यवारी ,और सुनील की टीम बनाकर नजर रखने को कहा गया। इसी कड़ी में सिपाही सुनील और दिलावर को एक शख्स ने सूचना दी की चार लोग CID ऑफिसर बनकर उसे धमका रहे है। इस सूचना पर दोनों ने बिना समय गवाएं उन चारों पकड़ा और पूछताछ की तो उन्होंने खुद को हरियाणा पुलिस का बताया। दोनों से पूछताछ में शक गहरा हुआ और उनसे आईडी कार्ड मांगा गया। दोनों ने आईडी कार्ड दिखाया जो पहली ही नजर में फ़र्ज़ी लगा और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। 

बीट स्टाफ के सतर्कता से आये संकजे में

पकड़े गए चारों आरोपी सिक्योरिटी गार्ड का काम किया करते थे। इनमें मंगोल पूरी का रहने वाला सागर, किराड़ी सुलेमान नगर का रहने वाला परवीन, नांगलोई का रहने वाला लोकेश और अमन विहार का रहने वाला अमर सिंह है।  कब्जे से पुलिस को फ़र्ज़ी आईडी कार्ड भी बरामद हुए है। इन चारों आरोपियों ने जिस तरह से पुलिस को भी बरगलाने की कोशिस की उसे देख लग रहा है की ये काफी समय से इस तरह फ़र्ज़ी सीआईडी और पुलिस अधिकारी बनकर लोगों को डरा कर उनसे वसूली कर रहे थे। 

पुलिस और सीबीआई के फ़र्ज़ी आईडी कार्ड बरामद

चारों आरोपी सिक्योरिटी गार्ड का काम एक साथ ही करते थे। इनमें सागर सिंह नाम का आरोपी संदीप नाम के एक शख्स के सम्पर्क में आया। संदीप ने ही इन्हे नकली आईकार्ड उपलब्ध कराये है। पुलिस के अनुसार इन तीनों का कोइ आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। पुलिस ने इन्हे रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पुलिस को शक है कि इन्होने बड़ी संख्या में लोगों को इस तरह नकली सीबाईआई और पुलिस अधिकार बनकर वसूली की है। पुलिस को ऐसे लोगों को इंतजार है जिन्हे इस गैंग ने अपना शिकार बनाया है। 

टिप्पणियाँ
Loading...