भारतीय सेना दिवस पर सेना ने रखी एक नई थीम-विजय रन

नेहा राठौर 

सेना दिवस, भारतीय सेना के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण दिन है। आज ही के दिन लेफ्टिनेंट जनरल केएम करियप्पा ने 15 जनवरी 1949 में भारत के अंतिम भारतीय सेना के जनरल फ्रांसिस बुचर से सेना के पहले कमांडर.इन.चीफ के रूप में कार्य भार संभाला था। वह फील्ड मार्शल के पांच सितारा रखने वाले दो अधिकारियों में से एक थे और दूसरे अधिकारी सैम मानेकशॉ थे। करियप्पा ने उस दौरान जय हिंद का नारा अपनाया था, जिसका मतलब था भारत की जीत। इस दिन को भारत में हर साल सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के साथ साथ सभी मुख्यालयों में परेड और अन्य सैन्य कार्यक्रमों के रूप में मनाया जाता है । 2021 को 73वां भारतीय सेना दिवस नई दिल्ली में मनाया जाएगा। यह दिन उन सभी बहादुर सैनिकों को देश की तरफ से एक सलाम है जो देश और इसके नागरिकों की रक्षा के लिए अपनी जान का बलिदान देने से एक बार भी नहीं कतराए।

सेना दिवस पर बदलाव का सिलसिला
इस दिन देश भर में समारोह होते है और उन्हीं समारोह के दौरान दिल्ली छावनी के करियप्पा परेड मैदान में मुख्य सेना दिवस परेड का आयोजन किया जाता है। इन समारोह में सैनिकों को वीरता पुरस्कार और सेना पदक से भी सम्मानित किया जाता है। इन परेड में परमवीर चक्र और अशोक चक्र पुरस्कार विजेता हर साल हिस्सा लेते हैं। इस समारोह में सैन्य हार्डवेयर, कई टुकड़ी और एक लड़ाकू प्रदर्शनी भी परेड का एक अहम भाग है। समय के साथ साथ भारतीय सेना में भी कई बदलाव देखने को मिले हैं। पहले महिलाओं को परेड की कमान संभालने का अवसर नहीं दिया जाता था लेकिन 2020 में पहली बार एक महिला तानिया शेरगिल ने आर्मी डे पर परेड की कमान संभाली थी। हर साल इस दिन को अलग अलग विषयों और विचारों के साथ मनाया जाता है। जैसे 2020 में भारतीय सेना दिवस की थीम डिफेंस का डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन थी। लेकिन इस साल कुछ अलग और नई थीम को लिया गया है इस साल भारतीय सेना ने 1971 में पाकिस्तान पर भारत की शानदार जीत के लिए स्वर्णिम विजय वर्ष समारोह मनाने के लिए एक मैराथन यानी विजय रन का आयोजन किया गया है।

टिप्पणियाँ
Loading...