ज्योतिष विज्ञानी डा. शीशम बंसल अग्रवाल की पुस्तक “ओ३म्” ब्रह्मांड का नाद पुस्तक का विमोचन समारोह

0

संवाददाता, दिल्ली दर्पण टीवी

नई दिल्ली।। प्रसिद्ध ज्योतिष विज्ञानी डा. शीशम बंसल अग्रवाल की नव प्रकाशित पुस्तक “ओ३म्” ब्रह्मांड का नाद पुस्तक का विमोचन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक माननीय श्री इंद्रेश जी के सान्निध्य एवं कर कमलों द्वारा दिनांक 17 जनवरी, 2021, रविवार को दोपहर 3. 00 बजे स्पीकर हाल, कांस्टीट्यूशन क्लब, रफी मार्ग, नई दिल्ली में होगा।

विमोचन कार्यक्रम की अध्यक्षता डा. नन्द किशोर गर्ग, संस्थापक अध्यक्ष, महाराजा अग्रसेन विश्वविद्यालय और मुख्य अतिथि सांसद मनोज तिवारी होंगे। कार्यक्रम के संयोजक भारत प्रकाशन के डाइरेक्टर श्री मान् बिहारी लाल सिंघल हैं। इस अवसर पर शिवली कालेज, आजम गढ की संस्कृत विभागाध्यक्ष डा. शाहीन जाफरी और सुभारती विश्वविद्यालय, मेरठ के डा. भंते अनंदमाथोरो उपस्थिति रहेंगे।

डा. शीशम बंसल एक विख्यात एस्ट्रोलोजर, टैरोट कार्ड रीडर, न्यूमरोलोजिस्ट, होलिस्टिक हीलर, वास्तुु सलाहकार, टेरो कार्ड रीडर और टीचर हैं। विगत 18 वर्षों से मनोगत विज्ञान को समर्पित डा. शीशम ने सफलतापूर्वक अनेक लोगों के जीवन में बदलाव लाने में मदद की है। जीवन के सभी क्षेत्रों के लोग अपने कष्टों के निवारण के लिए उनसे संपर्क करते हैं।देश के तमाम राष्ट्रीय टेलीविजन चैनलों पर डा. शीशम लाखों दर्शकों को ज्योतिषीय सलाह देती रहती हैं। वह भारत में ही नहीं, अमेरिका, ब्रिटेन, ईस्ट एशिया देशों में बैठे लोगों को भी अपनी अमूल्य ज्योतिषीय सलाह देती रहती हैं।ज्योतिष के क्षेत्र में उनका अपूर्व योगदान है।

माण्डूक्य उपनिषद एवं ईशोपनिषद, वैदिक ज्योतिष, पराशर ज्योतिष, अंक ज्योतिष, रैकी, रत्न शास्त्र आदि सात विषयों में डाक्ट्रेट डा. शीशम को ज्योतिष क्षेत्र के प्रतिष्ठित सम्मान और पुरस्कार प्राप्त किए हैं। वह एस्ट्रोलोजी डाक्ट्रेट में गोल्ड मेडलिस्ट हैं। इसके अतिरिक्त बेस्ट एस्ट्रोलोजर अवार्ड, यूनिवर्सिटी आफ ज्योतिष पीठ द्वारा लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड, यंग अचीवर्स अवार्ड, कनाडा चैप्टर द्वारा बेस्ट रेकी हीलर अवार्ड भी प्राप्त किए।विभिन्न आध्यात्मिक पंथों से जुड़ीं डा. शीशम अनेक पत्रिकाओं में लेखन कर रही हैं।

मुख्यतौर पर वह मनोगत विज्ञान से संबंधित विषयों पर लिखती रहती हैं। वह अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका मेंटर की एक्सपर्ट ग्राफोलोजिस्ट अर्थात विशेषज्ञ हस्तरेखा विज्ञानी के रूप में सहयोगी हैं।डा. शीशम ने स्वाभाविक रूप से अयूर अंकशास्त्र की कला का बीड़ा उठाया है, जहां वह अंकशास्त्र के साथ प्रकृति, भविष्य और स्वास्थ्य की सटीकता के साथ संपूर्ण नाड़ी विश्लेषण करती हैं।उन्हें अंकशास्त्र में जन्म की तारीख के माध्यम से संपूर्ण कुंडली बनाने में भी महारत हासिल है।

टिप्पणियाँ
Loading...