स्कूल खुलते ही बच्चे होने लगे बिमार, पेट की तक्लीफ ने किया परेशान

प्रियंका आनंद

नई दिल्ली।। पिछले काफी समय से कोरोना के कारण बच्चे अपने घर में कैद थे। अब स्कूल खुलने के बाद उनकी दिनचर्या काफी बदल गई है। बच्चों ने बाहर का खानपान भी शुरू कर दिया है। जिसका उनकी सेहर पर बुरी प्रभाव पड़ना शुरू हो गया है। एक सर्वे के मुताबिक स्कूल खुलने के बाद से बच्चों में पेट दर्द, आंतों की परेशानी, उल्टी, दस्त अन्य बिमारियों ने घेरना शुरू कर दिया है।

डॉक्टरों का कहना है कि बरसात के इस मौसम में कई प्रकार के वायरस सक्रिय हो जाते हैं, जो अलग-अलग जगह मौजूद रहते हैं। ऐसे में घर से निकलने के बाद सावधानी बरना ज़रूरी है। फोर्टिस अस्पताल के पीडियाट्रिक विभाग के निदेशक डॉ. राहुल नागपाल ने बताया कि विभाग में इलाज के लिए पहुंच रहे कई बच्चों में इस समय गेस्ट्रो संबंधी समस्याएं देखी जा रही है। उनको पेट दर्द के साथ पाचन तंत्र में गडबड़ी हो भी रही है। इसका प्रमुख कारण बच्चों का बाहर का खाना बताया गया है। जिससे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल( पेट से जुड़ी समस्याएं) संक्रमण भी बढ़ गया है। बाहर खाना खाने से यह सब परेशानियां हो रही है।

ये भी पढ़ेंप्रेम विवाह करने पर परिजनों ने युवती को दी रूह कांपने वाली सज़ा, पुलिस भी सत्ते में…


अगर बात करें कलावती शरण अस्पताल के डॉक्टर विकास कुमार कि तो वायरल के अलावा बच्चों को सबसे अधिक परेशानी उल्टी और दस्त की है। साथ ही उन्होंने बताया कि पेट खराब होने के कारण ऐसा हो रहा है। पांच साल से कम उम्र के बच्चों में यह समस्या अधिक देखी जा रही है। माता-पिता को चाहिए कि घर को हमेशा साफ़ सुथरा रखें। बच्चों को खाना खिलाने से पहले अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइज़र की मदद से अच्छे से धो लें। ऐसा करने से कोई भी बैक्टीरिया बच्चों में प्रवेश नहीं करेगा और वह इन बीमारियों से बचे रहेंगे। 

इन बातों का रखें ध्यान

  • खाना खाने के तुरंत बाद बच्चे को पानी न पिलाएं। 
  • खाना खाने के हमेशा आधे घंटे के बाद ही पानी पीना चाहिए।
  • बच्चे को पेट दर्द होने पर पतली चीजें, सूप और ताजी पकी हुई सब्जियां ज्यादा खिलाएं।
  • जिन बच्चों का पेट ज्यादा खराब रहता है, वो तला हुआ और जंक फूड न खाएं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा यूटयूब चैनल दिल्ली दपर्ण टीवी (DELHI DARPAN TV) सब्सक्राइब करें।

आप हमें FACEBOOK,TWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं।

टिप्पणियाँ
Loading...