glam orgy ho spitroasted.pron
total italian perversion. jachub teens get pounded at orgy.
site

30 अप्रैल को दिल्ली में होगा मधु लिमये के जन्म शताब्दी समारोह का आगाज

गांधी शांति प्रतिष्ठान में होगा आज के संदर्भ में मधु लिमये और पुस्तक एवं सोविनियर का  लोकार्पण 
प्रो.  राजकुमार जैन करेंगे कार्यक्रम की अध्यक्षता, प्रो. आनंद कुमार होंगे मुख्य वक्ता, विशेष वक्ताओं में हरभजन सिंह सिद्धू, रामशंकर सिंह, विजय प्रताप सिंह, अरुण श्रीवास्तव, डॉ. सुनीलम, महेंद्र शर्मा, मंजू मोहन और राकेश कुमार होंगे

चरण सिंह राजपूत
नई दिल्ली।
समाजवादी समागम 1 मई से 8 जनवरी तक स्वतंत्रता सेनानी और प्रख्यात समाजवादी मधु लिमये का जन्म शती समारोह मना रहा है। इस समारोह का आगाज 30 अप्रैल को गांधी शांति प्रतिष्ठान में आज के संदर्भ में मधु लिमये और पुस्तक एवं सोविनियर के लोकार्पण से होगा। दोपहर एक बजे से होने वाले इस कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ समाजवादी प्रो. राज कुमार जैन करेंगे। मुख वक्ता समाजवादी विचारक प्रो. आनंद कुमार और हिन्द मजदूर सभा के महामंत्री हरभजन सिंह सिद्धू होंगे। विशेष वक्ताओं में वरिष्ठ समाजवादी रामशंकर सिंह, विजय प्रताप सिंह, समाजवादी और एनसीपी के नेता अरुण श्रीवास्तव, समाजवादी और किसान संघर्ष समिति मध्य प्रदेश के अध्यक्ष डॉ. सुनीलम, महेंद्र शर्मा, मंजू मोहन, राकेश कुमार होंगे। इस कार्यक्रम के संयोजक हरभजन सिंह हैं।

यह भी पढ़ें-  जहांगीरपूरी हिंसा में PFI CONNECTION ?

दरअसल स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, गोवा मुक्ति आंदोलन के सिपाही, पुणे से बांका ( बिहार ) जाकर चुनाव जीतने की ताकत रखने वाले, 128 किताबों के रचनाकार प्रख्यात संसदविद मधु लिमये का यह जन्म शताब्दी वर्ष है। इसे मनाने की पहल समाजवादी समागम ने की है। जिसके तहत दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में 30 अप्रैल को तथा पटना के ए एन सिन्हा इंस्टीट्यूट में जन्मदिवस 1 मई को कार्यक्रम होना है। इस अवसर पर मधु लिमये जी के जीवन और विचार को लेकर एक स्मारिका प्रकाशित की जाएगी। स्मारिका का संपादन प्रो. आनंद कुमार करेंगे। इस अवसर पर एक प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जाएगा। देशभर के कार्यक्रमों का संयोजन करने के लिए मधु लिमये जी के निकटस्थ प्रो. राजकुमार जैन को जन्म शताब्दी समारोह का संयोजक बनाया गया है तथा डॉ. सुनीलम को सचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
दरअसल मधु लिमये जी की स्मृति में गत 27 वर्षों से उनके निकटस्थ सहयोगी पूर्व सांसद राजनीति प्रसाद हर वर्ष दो कार्यक्रम आयोजित करते हैं। मधु लिमये की अंग्रेजी की 4 किताबों का मराठी में अनुवाद मुंबई में मधु लिमये के बेटे और दूसरे समाजवादियों के मिलकर किया जा रहा है।
पुणे (महाराष्ट्र) और बिहार के कई जिलों में भी समाजवादी साथियों के द्वारा कार्यक्रम मनाएं जाने की सूचना है। डॉ. सुनीलम ने कहा है कि देश में जो भी लोग स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों एवं संवैधानिक मूल्यों में भरोसा रखते हैं, उन्हें मधु लिमये जी की जन्म शताब्दी को मनाने के लिए उनके लेखों और किताबों को लेकर जगह-जगह पर विचार गोष्ठी आयोजित करनी चाहिए।

दरअसल समाजवादी आंदोलन में मधु लिमये ऐसे समाजवादी चिंतक रहे हैं, जिन्होंने समसामयिक चुनौतियों पर अपने जीवन काल में लगातार लिखा है। मधु लिमये जी ने स्वतंत्रता आंदोलन, गोवा मुक्ति आंदोलन, संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी, सोशलिस्ट पार्टी, जनता पार्टी और जनता दल को लेकर जितना कुछ अपनी भागीदारी पर लिखा है उतना किसी भी दूसरे समाजवादी चिंतक ने नहीं लिखा। यह सब लिखने का कार्य वे इसलिए भी कर पाए कि उन्होंने जनता पार्टी के बिखराव के बाद खुद को सक्रिय राजनीति से अलग कर लिया था ।
डॉ. सुनीलम बताते हैं कि उन्हें याद है कि प्रो. विनोद प्रसाद सिंह जी के साथ जब भी वह दिल्ली के पंडारा रोड स्थित मधु लिमये जी के निवास पर जाते थे तथा जब भी उनसे समाजवादी आंदोलन को मजबूती देने के लिए, राजनीति में सक्रिय होने के लिए कहते थे तब वे कहा करते थे कि विनोद प्रसाद सिंह, मोहन सिंह, बृजभूषण तिवारी, राजकुमार जैन, रघु ठाकुर जैसे 100 समाजवादीयों के नाम ले आओ तब मैं भी सक्रिय हो जाऊंगा। यह उनके जीवन काल में सम्भव नहीं हो सका । मधु लिमये जी के यह कहने पर कि इतिहास में पूर्ण विराम नहीं होता लेकिन यदि इतिहास में अपना नाम दर्ज कराना चाहते हो तो समाजवादी आंदोलन का इतिहास लिखो।

डॉ. सुनीलम ने बताया कि राजनीतिक गुरु प्रो. विनोद प्रसाद सिंह के साथ उन्होंने समाजवादी आंदोलन के अप्रकाशित दस्तावेजों का संकलन स्वयं प्रकाशित किया। एवोल्यूशन ऑफ सोशलिस्ट पालिसी इन इंडिया नामक एक किताब अंग्रेजी में सोशलिस्ट इंटरनेशनल की दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कौंसिल की बैठक के अवसर पर सुरेंद्र मोहन और तीन मूर्ति म्युज़ियम और लाइब्रेरी के डिप्टी डायरेक्टर हरिदेव शर्मा के साथ मिलकर जनता दल की मदद से प्रकाशित की थी।
उन्होंने बताया कि मुलताई पुलिस गोलीचालन के फर्जी मुकदमों में आजीवन कारावास की सजा हो जाने के बाद प्रो. विनोद प्रसाद जी के असामयिक निधन हो जाने के कारण उनके द्वारा दो और किताबों की पांडुलिपि तैयार कर दिए जाने के बावजूद प्रकाशित नहीं की जा सकी। मधु लिमये जी की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि उनकी याददाश्त बेमिसाल थी।
उन्हें अपने जीवन के हर पल में घटित सब कुछ जस का तस याद रहता था। इसका प्रमाण मधु लिमये जी की भारतीय प्रकाशन संस्थान द्वारा
प्रकाशित 506 पेज की आत्मकथा है, जो उन्होंने 26 जून 1975 को तत्कालीन मध्य प्रदेश (अब छत्तीसगढ़) के महासमुंद जिले में गिरफ्तार होने के बाद नरसिंहगढ़ जिले की जेल में लिखी थी। जेल में हर दिन वे 2 घंटे लिखा करते थे। उन्होंने इस आत्मकथा में केवल 15 अगस्त 1947 तक का जिक्र किया है। मधु जी के शब्दों में 15 अगस्त 1947 को युग परिवर्तन हुआ था, उनकी पीढ़ी के एक ध्येय की पूर्ति हुई थी। वे इसे आंदोलनों का स्वर्ण कहते थे। 1947 से 1964 तक समाजवादी दल के विस्तार, पार्टी की उथल-पुथल, गोवा मुक्ति संग्राम, संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन को वे दूसरा तथा 1964 के बाद का तीसरा खंड मानते थे ,जब उन्होंने लोकसभा में पहुंचकर देश और दुनिया में ख्याति प्राप्त की थी ।
मधु लिमये जी ने आत्मकथा को तीन खंडों में लिखने की योजना बनाई थी। पहला खंड 24 दिसंबर 1994 के दिन पूरा हुआ था। मधु लिमये जी इसका अंग्रेजी अनुवाद स्वयं कर रहे थे तथा द्वितीय खंड के कागजात जुटा रहे थे लेकिन उसी बीच 8 जनवरी 1995 को अल्पकालीन बीमारी के बाद उनका अचानक निधन हो गया।
चंपा लिमये जी, जो मधु लिमए जी की जीवनसंगिनी ( पत्नी ) थी, ने ही प्रथम खंड का सारा मजनून लिपिकार के तौर पर लिखने का काम पूरा किया था। चंपा जी बार-बार यह कहती थी कि दूसरा खंड भी आप मुझे लिखाइए लेकिन मधु जी परफेक्शनिस्ट थे। वे कहते थे कि जब तक पहला खंड मन मुताबिक तैयार नहीं होगा, तब तक दूसरा और तीसरा खंड तैयार नहीं करूंगा। चंपा जी के अनुसार मधु जी को लिखने के लिए प्रो. केलावाला ने युवा अवस्था में प्रेरित किया था। ‘ग्रीक संस्कृति का यूरोपीय संस्कृति पर प्रभाव’ विषय पर अंग्रेजी में विस्तृत निबंध लिखने का सफल प्रयोग होने के बाद प्रो केलावाला ने ‘1935 के संविधान का कानून’ पर दूसरा पेपर लिखने का आदेश दिया था, इसी क्रम में मधु जी की मुलाकात कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी के नेता एसएम जोशी से हुई। जिनके त्यागमयी जीवन ने मधु जी के पूरे जीवन को परिवर्तित कर दिया। बाद में धूलिया की जेल में 1940 – 41 में उनकी साने गुरुजी से भेंट हुई। चंपा जी के शब्दों में महाराष्ट्र के इन दो वरिष्ठ नेताओं ने मधु जी पर माता के प्यार की जो वर्षा की, उसकी कोई तुलना नहीं हो सकती। मधु जी की आत्मकथा का अनुवाद श्रीमती सुलभा कोरे ने हिंदी में किया है ।

आत्मकथा में बचपन, प्राथमिक शिक्षा, समाजवादी परिधि में प्रवेश, महाराष्ट्र में कांग्रेस के नेतृत्व का दर्शन ,वामपंथी आंदोलन, सक्रिय राजनीति में प्रवेश, खानदेश और युद्ध विरोधी मुहिम, जेल की जिंदगी, साने गुरुजी के साथ परिचय ,भारत छोड़ो आंदोलन, अगस्त क्रांति और भूमिगत आंदोलन, क्रांतिकारी मासिक का प्रकाशन, वर्ली -यरवड़ा-बिसापुर जेल यात्रा, महा युद्ध की समाप्ति और मेरी रिहाई, चुनाव में प्रचार कार्य ,1946 के राजनीतिक परिवर्तन, कोलकाता का एटक सम्मेलन और समाजवादी पार्टी का कानपुर सम्मेलन, विट्ठल मंदिर प्रवेश पर साने गुरुजी का अनशन, उंबरगांव शिविर, आजादी तथा बंटवारे का दर्द को लेकर विस्तृत तौर पर लिखा है। देश के विभाजन को लेकर उन्होंने लिखा है कि 14 – 15 अगस्त की आधी रात को भारत की संविधान सभा की बैठक में स्वतंत्रता संग्राम दिवस मनाया गया तथा मुझे और मेरे युवा सहयोगियों को यह देश विभाजन का निर्णय दिल के दो टुकड़े करने जैसा लगा।
उन्होंने लिखा है कि 15 अगस्त को पुणे में स्वतंत्रता उत्सव मनाया जा रहा था, उस भीड़ का अंग होने के बावजूद मैं उस भीड़ में पूरी तरह से एक नहीं हो पाया। आखिर आजादी मिली। कितने सालों का अथक परिश्रम का फल हाथ में तो आया लेकिन देश के विभाजन और दंगों से उस फल के मिलने के कारण हुई खुशी पर घड़ों पानी फिर गया था। मधु जी की इस आत्मकथा को पढ़कर यह जाना जा सकता है कि वे प्राथमिक शाला से लेकर देश के विभाजन तक किस-किस से कब कब मिले, मिलते समय वे क्या सोच रहे थे, क्या कह रहे थे तथा क्या कर रहे थे। हर बैठक में हुई चर्चा का सारांश भी तथा बहस का एक-एक वाक्य उन्हें जस का तस याद रहा। कौन से दोस्तों के साथ किस दिन आंदोलन किया, किस दिन फिल्म देखी, किस दोस्त का मूड किस दिन कैसा था आदि का ब्योरा तो आत्मकथा में मिलता ही है, साथ ही जिन स्थानों पर वे गए, उन स्थानों का ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व का उल्लेख भी वे करते हैं। इससे समाजवादी आंदोलन के महानायक मधु लिमये जी की सम्वेदनशीलता, राष्ट्रवादी चिंतन, आज़ादी के आंदोलन के लिए समर्पण, अंतरराष्ट्रीय मामलों पर उनकी समझ, त्यागमयी और संघर्षमयी जीवन का पता चलता है। (साभार डॉ. सुनीलम )

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा यूटयूब चैनल दिल्ली दपर्ण टीवी (DELHI DARPAN TV) सब्सक्राइब करें।

आप हमें FACEBOOK,TWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं

टिप्पणियाँ
Loading...
bokep
nikita is hot for cock. momsex fick meinen arsch du spanner.
jav uncensored