Sunday, May 19, 2024
spot_img
Homeअन्यरोहिणी में परशुराम जन्मोत्सव की धूम

रोहिणी में परशुराम जन्मोत्सव की धूम

[bs-embed url=”https://youtu.be/kWBuXUUnqgY”]https://youtu.be/kWBuXUUnqgY[/bs-embed]

यह भव्य पंडाल….जूगनुओं सा चकमक करती चारों दिशाएं…चंदन लगाती…फूलों से स्वागत करती ये महिलाएँ…और हजारों की संख्या में खचाखच भरे ब्राह्मण समाज के सम्माननीय लोग…और ओजस्वी वीर रस की ये कविता पाठ ……ये नजारे हैं रोहिणी सेक्टर 11 में ब्राह्मणों के पुरोधा भगवान श्री परशुराम जन्म उत्सव और विशाल ब्राह्मण सम्मेलन समारोह का….क्या महिलाएँ….क्या बच्चे या बुढे…सभी अपने ईष्ट देव भगवान परशुराम के त्याग, कारनामे और उनके वंशज होने पर गौरवान्वित हैं….लोगों का कहना है कि भारतीय सभ्यता के विकास में ब्राह्मण समाज का त्याग और देन अनमोल है….ब्राह्मण वर्ग देश और क्षेत्र के विकास के लिए प्राचीन काल से ही बलिदान और योगदान देते आये हैं….और भगवान परशुराम इसका सबसे बड़ा मिसाल हैं. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 के स्वर्ण पदक विजेता भारतीय पहलवान पद्मश्री योगेश्वर दत्त ने ऐसे आयोजन को ब्राह्मण समाज के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद बताया…उन्होंने कहा कि भगवान परशुराम का त्याग और बलिदान हमारा मार्गदर्शन करती है…हमें उनके बताये मार्गों पर चलने की जरुरत है… साथ ही उन्होंने देश के विकास के लिए एकजुटता पर जोर डाला. दिल्ली रोहिणी ब्राह्मण सभा के इस आयोजन में वैवाहिक सेवा शिविर और कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया….वहीं ब्राह्मण समाज की अपार उस्थिति से उत्साहित ब्राह्मण समाज के दिल्ली एनसीआर अध्यक्ष आचार्य विद्यारतन ने ब्राह्मण वर्ग की एकता और विकास पर जोर डाला….उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन से समाज के लोगों को काफी फायदा होता है. परशुराम उत्सव समारोह में ब्राह्मण समाज की भारी मौजूदगी और उत्साह…..भगवान परशुराम के वंशज होने पर गौरवान्वित होना….समाज के लोगों के प्राचीनकाल में किये गये त्याग और बलिदान को अपनाते हुए… उनके नक्श-ए-क़दम पर चलने की इच्छाशक्ति….एक बार फिर ब्राह्मण समाज को मानवजाति के उत्कर्ष पर पहुंचाने में अहम होगा….साथ ही यह कहना अनुचित नहीं होगा कि…जिस आचरण और कर्तव्यनिष्ठा के लिए प्राचीनकाल में जो ब्राह्मण समाज पूजनीय थे….वह ब्राह्मण समाज एक बार फिर अपने सद्गुण आचरण और कर्तव्यनिष्ठा के लिए पूजे जाएंगे. दिल्ली दर्पण टीवी के लिए कैमरामैन रवि रोहिल्ला के साथ विद्या नन्द मिश्रा की रिपोर्ट .

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments