Monday, May 20, 2024
spot_img
Homeअपराधसाथी की तलाश में कहीं साथी का शिकार न बन जाएँ आप...

साथी की तलाश में कहीं साथी का शिकार न बन जाएँ आप !

दिल्ली पुलिस नॉर्थ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट के अशोक विहार थाने ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है जो मैट्रिमोनियल साइट पर खुद को तलाकशुदा बता कर महिलाओं से संपर्क साधता और उनका विश्वास जीतने के बाद उनसे ठगी किया करता था। मनीष गुप्ता नाम का यह शख्स पहले से ही शादी शुदा है और अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ रोहिणी में रहता है। पुलिस के मुताबिक अशोक विहार में एक महिला डॉक्टर ने शिकायत दर्ज करा पुलिस को पूरे घटना की सूचना दी जिसके बाद पुलिस ने इस शख्स को हिरासत में लेकर पूछ ताछ शुरू की। पूछ ताछ में पता चला की खुद को लोहे का कारोबारी बताने वाला यह शख्स दरअसल एक जालसाज है जो मैट्रिमोनियल साइट्स के जरिये अब तक कई तलाकशुदा और विधवा महिलाओं को ठगी का शिकार बना चुका है।  
महिलाओं से संपर्क कर मनीष अपने तलाकशुदा होने की कहानी सुनाता और महिलाओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करता। तलाकशुदा या विधवा महिलाएँ ही मनीष के लिये सॉफ्ट टारगेट होती थीं जिनको ये शादी शुदा ज़िन्दगी के सपने दिखा भरोसे में लेता और फिर पैसे ऐंठने के बाद गायब हो जाता। 
लगभग आधा दर्जन मैट्रिमोनियल साइट्स पर  रजिस्टर कर इस शख्स ने कई हाई प्रोफाइल महिलाओं को अपना का शिकार बनाया और लाखों रुपये की ठगी की।   
लेकिन इस ठग की जालसाजी  पर्दाफाश तब हुआ जब अशोक विहार की ही एक महिला डॉक्टर ने पुलिस में इसके खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी।  महिला डॉक्टर से मनीष गुप्ता अब तक 75000 रुपये की ठगी कर चूका था।  
पुलिस ने जब इस शख्स को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो इसका सच सामने आया जो हैरान करने वाला है।  अक्सर इस तरह के मामले  महिलाएँ सामने नहीं आतीं लेकिन महिला डॉक्टर की शिकायत के बाद कुछ और  महिलाएँ भी सामने आई जो मनीष गुप्ता के प्रेमजाल का शिकार हो चुकी हैं। इस जालसाज ने सिर्फ इनसे पैसे ही नहीं ठगे बल्कि शादी  झाँसा देकर इनकी भावनाओं  साथ भी खिलवाड़ करता रहा ।   तलाकशुदा होने का दर्द महिलाओं को सुना कर उनकी भावनाओं के साथ खेलता और इस तरह से तलाक और अकेलेपन का दंश झेल रही महिलाएँ भी मनीष के बिछाये जाल में फँसती चली जातीं। मैट्रिमोनियल साइट्स पर ये खुद को एक बड़ा बिज़नेस मैन बताया करता और इसकी बातचीत से महिलाएँ भी  इसकी बात पर भरोसा कर लेतीं। 
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक चार और महिलाएँ भी पुलिस के संपर्क में आई हैं जो मनीष गुप्ता के प्रेमजाल का शिकार हुई और इनसे लगभग तीन लाख रुपये की ठगी की गई। बहरहाल पुलिस पूरे मामले की जाँच कर रही है।   पुलिस को मनीष के मोबाइल से 30 महिलाओं के मोबाइल नंबर भी मिले हैं जिनसे ये लगातार संपर्क में था। मतलब साफ़ है की अब तक दर्जनों महिलाओं को ये अपनी जालसाजी का शिकार बना चुका होगा। बहरहाल पुलिस मनीष से पूछ ताछ कर रही है ताकि और मामले भी सामने आ सकें।
सोशल साइट्स जहाँ एक तरफ सुविधाएं लेकर आता है वहीँ इसके जरिये किसी से संपर्क बनाने में सावधानी की भी जरूरत है। साथी की तलाश में कहीं साथी का शिकार न बन जाएँ आप !
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments