Sunday, May 19, 2024
spot_img
Homeराजनीति'आप' की शाही थाली पर उठा सवाल ?

‘आप’ की शाही थाली पर उठा सवाल ?

[bs-embed url=”https://youtu.be/uv8v-_yaLlE”]https://youtu.be/uv8v-_yaLlE[/bs-embed]

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के मुकदमें के लिए प्रसिद्ध वकील राम जेठमलानी को 22 लाख रुपये प्रति तारीख देने का मामला अभी चल ही रहा है की बीजेपी ने अब मुख्यमंत्री के घर हुयी महज 80 लोगों की पार्टी पर हुए खर्च पर अरविन्द केजरीवाल को घेरा है। विधान सभा में प्रतिपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा की आम आदमी की इस पार्टी का दावा करने वाले मुख्यमंत्री ने इस पार्टी में 14000 रुपये प्रति थाली खर्च किये है। दिल्ली के रोहिणी इलाके में बीजेपी प्रत्याशी अलोक शर्मा के चुनाव कार्यालय के उद्घाटन के अवसर पर बोलते हुए कहा की दिल्ली की जनता की खून पसीने की कमाई का मुख्यमंत्री और उसके मंत्री मिसयूज कर रहे है। विजेंद्र गुप्ता ने कहा की ग्यारह फरवरी 2016 और बारह फरवरी 2016 को मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के आवास पर दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार के एक साल पूरा होने पर एक पार्टी का आयोजन किया गया और फाइव स्टार होटल से खाने की थाली मंगवाई गई । ग्यारह फरवरी को पचास गेस्ट थे तो बारह फरवरी को तीस गेस्ट केजरीवाल साहब के आवास पर थे और साढ़े ग्यारह लाख का भोजन कराया गया एक थाली चौदह हजार के हिसाब से आई बारह फरवरी को इसका मतलब आम आदमी का दावा करने वाले लोग चौदह हजार की थाली का खाना खा गए । इतना महंगा खाना सरकारी खर्च से परोसा गया ।
विजेंद्र गुप्ता ने कहा की मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अपना निजी मुकदमा सरकारी खर्च से लड़ रहे है तो हर तारीख पर 22 लाख रुपये वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी को दे रहे है। इसके बाद इन दो दिनों में इतना महँगा खाना परोसना महज मिसयूज ही नहीं है बल्कि भ्र्ष्टाचार से जुड़ा मामला भी है। महज एक दिन के आगे पीछे हुयी इस पार्टी में एक थाली में 4 हज़ार रुपये का अंतर है ।
रामजेठमलानी को दी गयी फीस के बाद अब मुख्यमंत्री आवास पर परोसे गए इतने महंगे खाने के बिल को लेकर बीजेपी आप सरकार की उस इमेज को ताड़ना चाहती है जिसमें आप नेता खुद को बहुत सादा और साधारण इंसान बताते रहे है। बहरहाल निगम चुनाव में एक के बाद एक आ रहे ऐसे मामले “आप ” सरकार को बैकफूट पर ला रहे है। वहीं प्रदेश के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने ट्वीट कर कहा है कि बीजेपी के इशारे पर उनकी सरकार को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। साथ ही उन्होंने कहा है कि अगर हिम्मत है तो पूरी फाईल को लीक करें, जिसमें मैंने पेमेंट मना करने की नोटिंग किया था।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments