शालीमार बाग में एक कारोबारी ने बच्चों को मारकर की आत्महत्या|

0

ये हस्ते मुस्कराते चेहरे अब इस दुनिया में नहीं रहे |पलभर में एक परिवार ख़त्म हो गया |फिर एक कारोबारी की दुनिया उजड़ गयी | शालीमार बाग़ के बीजी ब्लॉक में रहने वाले कारोबारी मधुर मालानी ने अपने ही बच्चों का क़त्ल कर खुद को भी ख़त्म कर लिया |जिसने भी सुना वो दंग था , सभी के मन में एक सवाल था, आखिर क्यों के पिता ने ऐसा पाप किया की अपने ही दो बच्चों 14 वर्ष की बेटी शमीकांत और 6 साल के बेटे श्रीकांत की तार से गला घोटकर ह्त्या कर दी , और फिर खुद भी हैदर पुर मेट्रो स्टेशन पर जाकर मेट्रो के आगे कूद गया |पड़ोस में रह रहे लोगों और मकान मालिक के अनुसार मधुर मालानी पिछले कई महीनों के काम धंधा चौपट होने की वजह से बेहद डिप्रेशन में था |अपने आपको डिप्रेशन से उभरने के लिए अक्सर मोटिवेशनल विडिओ भी देखता था लेकिन फिर भी मायुशि और अपने बच्चों एक भविष्य को लेकर बेहद डरा हुआ था |करीब शाम 6 बजे उसने अपने दोनों बच्चों को मौत की नींद सुलाकर मालानी घर से निकल गया |शाम को जब मालानी की पत्नी रुपाली घर आये तो पता चला |पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी|कुछ देर बाद सूचना आयी की हैदर पुर मेट्रो स्टेशन पर एक शख्स ने आत्महत्या कर ली है |बाद में पता चला की वह और नहीं मालानी ही था|

शुरुआती जांच में पता चला की मालानी की रेगमाल बनाने की फैक्ट्री थे जो पिछले कुछ महीनो से बाद पडी थी |कारोबार चौपट होने की वजह वे वह इतनी डिप्रेशन में चले गए की उससे उभर नहीं पाए |किराये का  घर , बच्चों की स्कूल की फीस , इतना खर्च वह कैसे करेगा यही सोच सोच सोचकर वह परेशान रहता था |जब को रास्ता नहीं सोचा तो उसने यह कदम उठाया |मालानी पापी पिता बन गया |इस घटना से फिर साबित किया है की दिल्ली में लघु कारोबारी किस मंदी और बदहाली के दौर से गुजर रहे है|हालांकि पुलिस को मौके पे कोइ सुसाइड नॉट नहीं मिला है |बहरहाल शालीमार बाग़ थाना पुलिस ने मामला दर्ज़ कर शवों को पोस्ट मार्टम के लिए भेज कर सभी पहलुओं से मामले की जांच कर रही है |

टिप्पणियाँ
Loading...