आशियाने छीन जाने की खबर से रुक गई धड़कनें , हुई मौत

गाजियाबाद
आशियाना छीनने का दर्द कितना बड़ा होता है इसका अंदाजा गाजियाबाद की इस घटना से लगाया जा सकता है जो अब हम आपको बताने जा रहे हैं । मामला गाजियाबाद के विजयनगर इलाके के अंबेडकर नगर का है ।जहां पर आज यूपीएसआईडीसी ने एक नोटिस भेजा था । इस नोटिस में करीब 10000 मकानों के मालिकों को यह कहा गया है कि उनकी कॉलोनी अवैध है और जल्द यहां पर बुलडोजर चल सकता है । कुछ मकानों को अपने घर के आगे अवैध कब्जों को हटाने को भी कहा गया है। जैसे ही नोटिस कॉलोनी में आया हड़कंप मच गया । लोगों को समझ नहीं आया कि क्या करें। क्योंकि उन्होंने जैसे तैसे अपना आशियाना बनाया है। इसके बाद इलाके के ही रहने वाले लालसिंह नाम के बुजुर्ग को अचानक से हार्ट अटैक पड़ गया । और उनकी मौत हो गई । जाहिर है इसके बाद गुस्सा बढ़ना लाजमी था । लोग अब नेशनल हाईवे 24 की बाईपास पुलिस चौकी पर पहुंचे हैं। और यहां पर चौकी का घेराव किया है । लोगों का कहना है कि उन्हें नहीं बताया गया था कि उनकी कॉलोनी अवैध है । लोग तो खुद की कॉलोनी को अवैध होने से मना ही कर रहे हैं । क्योंकि उन्होंने सभी दस्तावेज एकत्र किए हुए हैं। और उनका कहना है कि जब मकान खरीदा था तो उससे संबंधित सभी सरकारी कागज भी बनवाए थे । इसके लिए बकाया धनराशि भी उन्होंने जमा की थी । अब ऐसे में उन्हें नहीं पता कि यह जमीन यूपीएसआईडीसी की है या फिर कब्जे की है । अब सवाल यह उठता है कि जमीन को बेचने वाला बिल्डर कहां है ?और जिस समय यह जमीन बिकी थी या उस पर मकान बनाए जा रहे थे उस समय अथॉरिटी ने कोई कदम क्यों नहीं उठाया था? ऐसे में हजारों लोगों का आशियाना छीन सकता है । जिस के डर से वह लोग अब परेशान हो गए हैं। उनकी रातों की नींद उड़ गई है । फिलहाल इस मामले पर सरकारी तौर पर कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

गाजियाबाद से दिल्ली दर्पण के लिए अरुण सिंह की रिपोर्ट

टिप्पणियाँ
Loading...