glam orgy ho spitroasted.pron
total italian perversion. jachub teens get pounded at orgy.
site

Firozabad News : खानपान और सावधानी से नियंत्रित हो सकता है गर्भकालीन मधुमेह : डॉ. प्रेरणा

  • समय से जांच और डॉक्टर से परामर्श लेती रहें
    -संतुलित भोजन, सलाद और ताजी सब्जियों को आहार में करें शामिल

फिरोजाबाद । जेस्टेशनल डायबिटीज यानि गर्भकालीन मधुमेह रक्त शर्करा से जुड़ा एक विकार है जो महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान शरीर के अंगों के साथ बच्चे को भी प्रभावित कर सकता है। जिला महिला अस्पताल की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रेरणा जैन का कहना है कि ऐसा उस समय होता है जब गर्भवती के शरीर में इंसुलिन बनना कम हो जाता है।
डॉ. प्रेरणा जैन ने बताया कि इसके कई कारण हो सकते हैं- जैसे दवा का ज्यादा सेवन करना, कम सक्रिय होना, चिंता करना, मीठा ज्यादा खाना, एक स्थान पर ज्यादा देर तक बैठे रहना आदि। हालांकि सावधानी और खानपान में बदलाव तथा उपचार से गर्भकालीन मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है।


डॉ . जैन का कहना है कि गर्भकालीन मधुमेह को नजर अंदाज किया गया तो गर्भवती के पेट में पल रहे शिशु की जान को खतरा हो सकता है। यदि मां के खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ता है तो वह गर्भनाल से गुजर कर शिशु के रक्त में पहुंच जाता है और शिशु का ब्लड शुगर बढ़ जाता है। ऐसी स्थिति में गर्भपात का जोखिम, शिशु में विकृति, शिशु औसत से ज्यादा वजन का होने से ऑपरेशन की संभावना बढ़ जाती है, तथा आखरी तीन माह में गर्भस्थ शिशु की मृत्यु तक होने का खतरा रहता है। मधुमेह के लक्षण कई बार स्पष्ट पता नहीं चलते हैं, ऐसी स्थिति में ब्लड टेस्ट से ही इसका पता लगाया जाता है।
डॉ. प्रेरणा का कहना है कि गर्भकालीन मधुमेह से निम्न प्रकार से महिलाएं अपने को स्वस्थ रख सकती हैं-

-संतुलित भोजन- सलाद और ताजी सब्जियों को आहार में शामिल करें |
-नियमित व्यायाम/टहलना- डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद नियमित टहलें और वही व्यायाम करें जो गर्भावस्था में सुरक्षित रहे |
-वजन न बढ़ने दें
-अपनी जीवनशैली को डॉक्टर के परामर्श के अनुसार ढालें |
-चिंता ना करें
-स्वयं को और परिवार का माहौल खुशहाल रखें |

  • समय से जांच और डॉक्टर से परामर्श लेती रहें।
टिप्पणियाँ
Loading...
bokep
nikita is hot for cock. momsex fick meinen arsch du spanner.
jav uncensored